Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

काला गुरुवार हो गया है

February 22, 2013

फिर एक बार काला गुरुवार हो गया है।

अब आदमी का जीना दुश्वार हो गया है।

 

दिल्ली हो या बनारस, जम्मू हो या की पटना

मुंबई हो या कहीं भी, हो सकती है ये घटना

ट्रेनों में हों या कोर्ट में, महफूज नहीं हैं

आतंक के निशाने पे, अब बाजार हो गया है।

फिर एक बार काला गुरुवार हो गया है।

 

हिन्दू नहीं मरते, न मुसलमान ही मरते हैं

इंसानियत पे वार हो, तो इंसान ही मरते हैं।

नेताओं की चकल्लस, सुन सुन के हुये आजिज़

इंसानियत तो कब से, तार-तार हो गया है।

फिर एक बार काला गुरुवार हो गया है।

 

हर बार झूठे वादे, हर बार झूठी कसमें

हर बार बस दिलासे, हर बार वही रस्में

घड़ियाली आँसू कब तक, देखेंगे और सहेंगे

लगता है जैसे की अब, सरकार सो गया है

फिर एक बार काला गुरुवार हो गया है।

अब आदमी का जीना दुश्वार हो गया है।

Go Back

Comment