Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

फिरता है...

January 1, 2016

वो मेरे कत्ल का, सामान लिए फिरता है।

सिर्फ हिंदू, या मुसलमान किए फिरता है।

 

जवानियों में, वो ढूँढे हसीन कातिल को ।

अपने ही कत्ल का, अरमान लिए फिरता है।

 

भूंखे रहकरके भी, वो जी रहा महँगाई में,

जिंदगी पर भी वो, एहसान किए फिरता है।

 

उनकी हसरत है कि, साँसों पे भी पाबंदी हो।

दाल खाओगे या मुर्गा, ये फरमान लिए फिरता है।

 

वोट के ही लिए, फैली है उसकी झोली,

कभी अल्ला, कभी भगवान, किए फिरता है।

 

गरीबी बेंचकर, ‘जानी’, अमीर होता है।

सिर पे मुद्दों कि वो दुकान लिए फिरता है।

Go Back

Comment