Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

बारी -बारी देश को लूटें ..........

April 25, 2014

बारी -बारी  देश  को  लूटें, बनी रहे  अपनी  जोड़ी।

तू हमरे जीजा के छोड़ा, हम तोहरे जीजा के छोड़ी।

 

एक सांपनाथ एक नागनाथ, एक अम्बेदकर लोहियावादी,

ई  जनता  की मजबूरी है, केका  पकड़ी  केका  छोड़ी?

 

सत्ताहित जो मिले पकड़ लो, दागी भ्रष्ट नहीं कोई,

येदुरप्पा -जूदेव के तू जोड़ा, राजा लालू के हम जोड़ी।

 

ब्लैकमनी बोफोर्स गरीबी, सेकुलर मंदिर बस नारों में,

सत्ता पाकर के चुप रहना, दौड़े बस जुबान की घोड़ी।

 

रोटी -पानी  ना  याद आये, जनता को ऐसे भरमायें,

मन्दिर के ताला तू खोला, मस्जिद जाकरके हम तोड़ी।

 

टू जी- कोयला हम देखेंगे, ताबूत-तहलका तुम देखो,

मिलकर ‘जानी’ बारी बारी, लूटेंगे  हम  कौड़ी कौड़ी।

 

सीबीआई- कैग-कमीशन की, हर जाँच को रद्दी में डालें,

कोर्ट कचहरी जाकर जनता, कितना करेगी भागा दौड़ी?

 

 

बारी -बारी  देश  को  लूटें, बनी रहे  अपनी  जोड़ी।

 

तू हमरे जीजा के छोड़ा, हम तोहरे जीजा के छोड़ी।

 

Go Back

Comment