Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

(व्यंग्य) खुश है जमाना आज.....

December 31, 2016

खुश है जमाना आज पहली तारीख है। यह गाना 30-40 सालों के बाद 2017 मे जाकर अपने लक्ष्य को प्राप्त हुआ है। पहली बार आम हों या खास, नेता हो या अभिनेता, गरीब हो या अमीर, नए साल पर सब खुश हैं। सरकार खुश है, विपक्षी खुश हैं।  सरकार समर्थक तो खुश हैं ही, सरकार विरोधी भी खुश हैं। तकलीफ में लाइन लगने वाला कुछ किन्तुओं परन्तुओं के साथ खुश है, तो बिना लाइन लगाए, रसूख वाला भी खुश है कि बैंक मैनेजर ने उसके घर तक ‘खुशी’ पहुंचा दी है।  और पहली बार जमाना खुश है। सच कहें तो रामराज्य अगर कहीं है तो सिर्फ हमारे देश में, और सिर्फ हमारे देश में है।

खुशी का कारण बड़ा साधारण है। आज से नोटबंदी खतम। पहली बार आप नए साल में दो हजार के नए करारे नोटों के साथ सेल्फ़ी ले सकते हैं, अगर आपने लाइन लगाने की हिम्मत की होगी तो। लेकिन खर्च करने की बिलकुल भी मत सोचिए, क्योंकि छुट्टा माँगने पर आपकी खुशी काफूर हो सकती है।

जैसे आजकल दुकानों पर लिखा होता है कि, फैशन के इस दौर में गारण्टी की आशा ना करें। वैसे ही पेटीएम के इस दौर में, रुपयों की आशा ना करें, और रुपये मिल भी जाएँ, तो खर्चने की कोशिश तो बिलकुल ना करें। दुबारा मिलने की कोई गारण्टी नहीं है, क्योकि कैशलेस के इस दौर में 60 फीसदी एटीएम अपनी मुफ़लिसी से तंग आकर ‘आउट आफ आर्डर’ का बोर्ड लटका चुके हैं।

हमेशा रोने वाली जनता पहली बार खुश है, तो इसका क्रेडिट मोदीजी को जाता है। उन्होने ने देश को बदल दिया है। जब से आए हैं, देश की आलसी-कामचोर जनता को लगातार बदल रहे हैं। कभी गंदगी छोड़ने को कहते हैं, कभी सब्सिडी छोड़ने को। कभी मेक इन इण्डिया और डिजिटल इण्डिया से देश बदलते हैं। तो कभी अध्यादेश पे अध्यादेश लाकर सरकार चलाने के तरीके को, प्रक्रिया को ही बदलते है। वो अलग बात है कि प्रणव दादा कभी कभी इतने बदल जाते हैं कि बोलने लगते हैं कि अध्यादेश से सरकारें नहीं चलती। लेकिन जब केजरीवाल अपने तरीके से कानून लाते हैं तो मोदी सरकार खुद बदल जाती है और प्रक्रिया की  याद दिलाती है।     

मोदी जी अनथक रूप से देश बदलने में लगे हैं। जड़ हो चुके देशवासियों को डायनामिक बनाने पर तुले हुये हैं। ये अलग बात है कि जनता भले डायनामिक ना हुई, सरकार ने रेल के किरायों को तो डायनामिक कर ही दिया। अब तो विरोधी भी  इतने बदल गए हैं कि तो मोदीजी की बातों का मतलब ही बदल देते हैं। मोदीजी बोलते हैं कि देश बदल रहा है, तो वो बोलते हैं कि हाँ, मोदीजी इतनी तेजी से विदेश यात्राएं कर रहे हैं कि उनके हवाईजहाज़ के नीचे लगातार देश बदलते रहते हैं।    

अब देखिए देश के साथ साथ मैं भी इतना बदल गया कि लिखते लिखते मुद्दा ही बदल दिया। अब आते हैं वापस अपने ढर्रे पर, यानी मुद्दे पर। हाँ, तो जमाना खुश है। सरकार खुश है नोटबंदी से कि लोग महँगाई- बेरोजगारी जैसे असली मुद्दों को भूल कर लाइन में खुश हैं। विपक्ष खुश है कि जनता परेशान हो रही है और नोट को बदले ना बदले, सरकार जरूर बदल देगी। समर्थक खुश हैं कि आज से आतंकवाद, नकली नोट, नक्सली, महँगाई, बेरोजगारी, भ्रष्टाचार जैसी सभी गम्भीर समस्याओं का रामबाण इलाज हो गया है और आज से वो सब समूल नष्ट हो जाएँगी। विरोधी खुश हैं कि नोटबंदी से सरकार की नसबंदी हो जाएगी। गरीब खुश है कि सरकार ने कालाधन ख़त्म करके, अमीरों को बीपीएल बना दिया। अमीर खुश हैं कि बैंकों में फिर से लोन देने लायक पैसा आ गया है। सर्वत्र खुशी का माहौल है। खुश रहने की, ये नई सीख है। खुश है जमाना, कि आज पहली तारीख है। हैप्पी न्यू ईयर।

Go Back

Bahut badhiya Manoj ji



Comment