Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

Blog posts : "गजल "

हर कीमत पर जो बिकने को...

September 10, 2017

हर कीमत पर जो बिकने को, बैठे हैं बाजारों में।  

भ्रस्टाचार वो ढूंढ रहे हैं, औरों के किरदारों में। 

 

जिनको  हम समझे…

Read more

हम उनका कहना तो, हर बार मान लेते हैं.

August 18, 2017

हम उनका कहना तो, हर बार मान लेते हैं.

जो झूठे वादों से, हम सबकी जान लेते हैं.

                     

कहा था जनता के, खाते में पैसे आयेंगे,…

Read more

…मुद्दों पे बातें, मना है।

July 18, 2017

आजकल के मुद्दों पे, बातें मना है 

क्योंकि ये सरकार की, आलोचना है। 

 

मर गये सैनिक, तो जी डी पी घटेगी?, 

कृषकों के मरने से…

Read more

वादों का कभी, हिसाब नहीं मिलता

July 17, 2017

उनके वादों का कभी, हिसाब नहीं मिलता।

सवाल तो बहुत हैं, पर जबाब नहीं मिलता।

 

जो भी विपक्ष में हैं, बस वो ही भ्रष्टाचारी,…

Read more

यूँ तो मयखाने से

January 31, 2016

यूँ तो मयखाने  से, हम दूर बहुत रहते हैं।

तेरे नशे में मगर, चूर बहुत रहते हैं।

 

हम तो फौलाद को भी, मोम बना सकते हैं,

इ…

Read more

फिरता है...

January 1, 2016

वो मेरे कत्ल का, सामान लिए फिरता है।

सिर्फ हिंदू, या मुसलमान किए फिरता है।

 

जवानियों में, वो ढूँढे हसीन कातिल को ।…

Read more

उनकी नजरों का.......

January 1, 2016

उनकी नजरों का जब से, इशारा हुआ।

दिल मुहब्बत का तब से, है मारा हुआ।

 

बस यही एक दौलत, कमाई थी जो,

अब ये दिल बेवफा भी, तुम्हारा हुआ।…

Read more

इस आशिकी में....

May 12, 2015

इस आशिकी में हाल जो, दिल का हुआ, हुआ।
मत पूँछिये मुझसे कि, मुहब्बत में क्या हुआ।

ताउम्र चलेगी ये, गमे इश्क की दौलत;
खायें…

Read more

किसानों पे सियासत

May 12, 2015

लाचार सी , मायूस, नजर देख रही है।
मिलती जिधर मदद है,उधर देख रही है।

एक दूसरे पे थोप के, इल्जाम पे इल्जाम;
हर मुद्दे से , बचने का, हुनर देख …

Read more

वो है ईमानदार, जो, पकड़ा ना गया हो.......

January 5, 2014

किस काम जवानी है, जो ज़ुल्फों में ना उलझे,

और हुस्न के फंदे में जो, जकड़ा ना गया हो।

 

पानी से भी कमतर है, वो खून जिस्म का

Read more

आँखों में नहीं......

October 31, 2013

आँखों में नहीं, दिल में, उतर जाएँ कभी तो

दरवाजे खुले हैं, वो इधर आयें, कभी तो ।।

 

मुमकिन नहीं है, मंजिले पाना तो क्या हुआ?…

Read more

सियासत की फसल

September 9, 2013

लाशों पे, सियासत की फसल, बो रहा है वो ।

जलते शहर में भी, सकूँ से, सो रहा है वो ॥

 

किलकारियाँ भरते थे जो, आबाद गली में ,

बस्ती …

Read more

है बहुत दुशवार जीना........

July 4, 2013

है बहुत दुशवार जीना, घर  के वीराने से,

जिंदगी  आबाद होती,  बस तेरे आने से !!

 

बस तुम्हारी ही खुशी है, इस जहां में बेहिसाब ,…

Read more

जताते नहीं हैं लोग ......

July 4, 2013

दिल में है किसके क्या? ये जताते नहीं हैं लोग !

होंठों  पे दिल की बात भी,  लाते नहीं हैं लोग !

 

खुद कुछ ना करें, सबकुछ भगवान से चाहें,…

Read more

आईने साफ करते हैं।

July 4, 2013

सियासत से नफरत, भले  हो  सभी को,

मगर हम सियासत, की ही बात करते हैं।

 

सजा के  हैं काबिल,  गुनहगार   जो,

वही बेगुनाहों की, सजा माफ करते हैं।…

Read more

हम उनसे मुहब्बत का...

July 1, 2013

हम उनसे मुहब्बत का, इजहार ना कर पाए।
दिल में ही रही चाहत, एक बार ना कह पाए।

चाहा तो बहुत दिल का, हम हाल बताएंगे,
कोशिश भी किया लेकिन, हर …

Read more

शराफत देखकर बन्दों की.......

June 12, 2013

शराफत देखकर बन्दों की, है करतार सदमें में ।
वफ़ा का हश्र वो देखा, कि है एतबार सदमें में ।

चोरी,  डकैती,  खून,  साजिश,  रेप से भरे,…

Read more

ये कैसी रात है???

May 3, 2013

ये कैसी रात है, दिखता नहीं सवेरा है

जहां-जहां भी नजर जाती है अंधेरा है

 

     जहां थी प्यार की, आबाद अभी तक बस्ती

     वहीं सियास…

Read more

माहौल मुल्क का......

May 3, 2013

माहौल  मुल्क   का,  ठण्डा   तो   है,

पर  इस  कदर  ठण्डा  भी  नहीं   है ।

कहीं हाथों  में, कत्ल  को  बन्दूक   तो  है

कहीं,चलने के लिये हा…

Read more

बीमार को, अब जहर पिला क्यों नहीं देते???

May 3, 2013

छिप कर के दुश्मनों से ,कब तक रहोगे घर में ,

          कुछ हम भी हैं,दुनिया को दिखा क्यों नहीं देते

          बीमार  को, अब जहर  पिला क्यों  नहीं  देते…

Read more

20 Blog Posts