Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

डर लगता है ..

February 19, 2013

जाने क्यूँ  रिश्तों  पे,एतबार  से  डर  लगता  है ।

अब तो कांटों का क्या,फ़ूलों के वार से डर लगता है।

 

कल तक, जो जगह  होती थी, इंसाफ़ का मन्दिर,

अब तो उसी मंदिर के,दरो-दीवार से डर लगता है।

 

कल  तक  के मुजरिमों को, कानून  का  डर  था,

पर अब तो मुंशिफ़ों को, गुनहगार से डर लगता है।

 

हालत  बना दी मुल्क की,  रखवालों   ने  ऐसी

इस देश को अपने ही, पहरेदार से डर लगता है।

 

ईमान  भी, इंसान  भी,  जज्बात  बिक  रहे ,

रिश्तों को बेंचने वाले, बाजार से डर लगता है।

 

‘जानी’ ये मुल्क अपने, पैरों पे क्या खडा हो ?

बैसाखियों पे चलती, सरकार से  डर लगता है।

 

संसद की  कुरसियों  में, जागी  है  ऐसी  भक्ती

संन्यासियों को,काशी - हरिद्वार से डर लगता है।

 

बैसाखियां थमाकर,  जो   टांग   खींच  ले

“जानी” को ऐसे नेक, मददगार से डर लगता है।

Go Back

Comment