Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.

धर्म बनाम जाति..............

July 4, 2013

वतन हिन्द था बहुत सुहावन।  बहत जहा गंगा जल पावन ॥

जाति  धर्म की  चर्चा  नाहीं।  ईर्ष्या, द्वेष ना भारत माहीं ॥

मिलि जुलि रहई इंहा सब लोगा। करई सदा कारज सम भोगा॥

कछुक दशक भई हिन्द आजादी।खतम मनुजता भई बुनियादी ॥

दुरुपयोग   भइली आजादी।  मिट गये भगत, बॉस अरू गांधी ॥

लोग रखाए  देश  को ऐसा।  घास  रखावत घोडा    जैसा ॥

जब घर अग्नि चिराग लगाए।  तो फिर घर को कौन बचाए ॥

ऐसे  हुआ  देश  के संगा । नेता  लोग   बढ़ाए   दंगा  ॥

रहें  देश में, देश को खाये। दीमक ज्यों लकड़ी को चबाए ॥

 

आजादी के मिलन से, मिल गयी इतनी छूट ।

जातिवाद, हिंसा, बढ़ी,  और बढ़  गयी फुट ॥

 

नेता   लोग  लड़ावन  लागे।  वोट  बैंक  बनावन   लागे ॥

जेहि विधि बनई देश के राजा। नेता करई तुरत सोई काजा ॥

धर्म –जाति सब एक समाना । लेकिन बांटी देई  भगवाना ॥

खुद तो देश एक में जोरे ।     राम  रहीम  मेँ  नाता तोरें ॥

बहुसंख्यक जो धर्म  है देशा । तिन्हई पूजि ये बनई नरेशा॥

मातृ - गर्भ  में जैसे   बेटा । भारत देश में  वैसे   नेता॥

माँ शोषण  से करता  पोषण । देश  सोख वो करते पोषण ॥

हिन्दू संख्या ज्यादा देखी ।  इनके हिय तब सोच विसेखी॥

हिन्दू हित कछु ढोंग दिखावऊ। काहे न मस्जिद ही गिरवावऊ॥

 

स्वार्थ भरी तलवार से, कटा खुदा का शीश।

सारे जग के बीच में, झुका देश का शीश ॥

 

रहत सदा हम जिसकी दुनिया।    उससे बड़ा कौन हे गुनिया ॥

बन्द   किए  भगवान को ऐसे ।  तोता हो पिंजरे में  जैसे ॥

राम बन्द  मंदिर  के  अन्दर । भइल तलैया में ही समुंदर ॥

धर्म  अस्त्र  जब  प्रथमू  डाले । दूजे जन ब्रह्मास्त्र  निकाले ॥

धर्म अस्त्र  से  अच्छे  लक्षण । नाम  दिये उसको आरक्षण ॥

वर्ण  अस्त्र  भी  रंग दिखाया । दूजे को शासन   दिलवाया ॥

मल्लयुद्ध फिर हुआ अरम्भा । भइल  देश  में ज़ोर का दंगा ॥

वाक- युद्ध   की  शुरू लड़ाई । एक दूजे की  किए  बुराई ॥

बोला  प्रथम  भूप सह रोषा । दूजे वाले  का  सब  दोषा ॥

इसने  जातिवाद   फैलाया । जनता संग दो भाव दिखाया ॥

 

दिया छूट बस एक को, दूजा हुआ भिंखार ।

देश तोड़ने का है,  इसका  बुरा   विचार ॥

 

दूजे भी तो थे अति ज्ञानी । सुनत वचन बोले मृदु बानी ॥

“माना मेंने जाति बढ़ाया । तुमने   पहले   धर्म बढ़ाया ॥

गर मैने दो भाव दिखाया । तुमने ही कब एक दिखाया ॥

हिन्दू  धर्म  बढ़ाया  तूने । मुस्लिम धर्म  दबाया तूने ॥

तुमने सिर्फ बढ़ाया हिन्दू । तुमसे ही  कुछ सीखा बंधु ॥

तुमने भी तो एक उठाया । मैने भी वो  ही अपनाया ॥

संविधान की बात जहाँ हो। तुमसे पहले प्रश्न वहाँ हो ॥

सविधान तूने क्यों छोड़ा। मस्जिद को तुमने क्यों तोड़ा ॥

ये तो समय बात में काटें ।अपने हित भाई को बांटे ॥

संभल नहीं गर हम जायेंगे। तो फिर आगे पछतायेंगे ॥

 

इसी  बीच में  तीसरे,  नेता  उभरे   एक ।

मुस्लिम धर्म बढ़ाने का, किया फैसला नेक ॥

 

बढ़ा वोट जब तीजे जन का । तब  दोनों का माथा ठनका ॥

सोचे   दोनों  फिर   से थोड़ा । दौड़ाए दिमाग का  घोड़ा ॥

एसे  गर  हम   लड़ जाएंगे । तीजे  कुर्सी  पा   जाएंगे ॥

फिर  दोनों की बंद लड़ाई । बन  गए दोनों भाई –भाई ॥

मिलकर दोनों  कुर्सी पाए । तीजे  जन  को दूर भगाए ॥

स्वारथ कुर्सी का हे इनको ।  खद्दर पहन के लूटे दिन को ॥

देश भलाई तनिक न जाँचे । खद्दर  पहन के  नंगा नाचे ॥

अपने हित भगवान को बांटे। स्वयं  बढ़ाकर खाईं,  पाटें ॥

कुर्सी हित कुछ भी कर जायें । दुश्मन और दोस्त बन जायें ॥

संभल नहीं गर हम जाएँगे । तो  फिर  आगे  पछतायेंगे ॥

 

नेता-गण सब शूल हैं,  तो  हैं लोग सरोज ।

सोच-समझ जनता बढे, विनती करे ‘मनोज’॥

Go Back

Comment