Menu

मनोज जानी

बोलो वही, जो हो सही ! दिल की बात, ना रहे अनकही !!

header photo

कविताओं की सूची

कविता

दर्द होता रहा, छटपटाटे रहे.....

August 18, 2017

दर्द होता रहा, छटपटाटे रहे, 
भ्रष्ट सिस्टम से हम, चोट खाते रहे.

फूल जन्माष्टमी पर, चढ़ाये बहुत, 
फूल गुलशन के बस, मुरझाते रहे.…

Read more

वो चिंता पे चिंता, किये जा रहे हैं।

July 16, 2016

वो चिंता पे चिंता, किये जा रहे हैं।
हम उनके भरोसे, जिये जा रहे हैं।

 

महंगाई पे चिंता, बेगारी पे चिंता,
वो चिंता बराबर, किये जा रहे हैं।…

Read more

बढ़िया है...

November 17, 2015

बढ़िया है...बढ़िया है...
तेरे नेता देश लूटते, देश भक्त बस मेरे नेता,
सबके अपने चश्मे हैं, सबका अलग नजरिया है। 
बढ़िया है...

 

Read more

वीर सपूत

October 28, 2015

होली, ईद, दिवाली बस, मनती है जज़्बातों में

हम चैन की नींद तभी सोते हैं, जब जागते हैं वो रातों में।

 

ठंडी, गर्मी या बारिश हो, जो लड़ते हर हालातों …

Read more

यह कैसा है लोकतन्त्र ?

August 12, 2014

यह कैसा है लोकतन्त्र?

कैसा यह जनता का राज

सहमी-सहमी जनता सारी

कैसा है ये देश आजाद ?

          जनमों के दुश्मन कुर्सी हित…

Read more

बारी -बारी देश को लूटें ..........

April 25, 2014

बारी -बारी  देश  को  लूटें, बनी रहे  अपनी  जोड़ी।

तू हमरे जीजा के छोड़ा, हम तोहरे जीजा के छोड़ी।

 

एक सांपनाथ एक नागनाथ, एक अम्बेदकर लोहियावादी,…

Read more

हिन्दी पखवाड़ा .......

September 9, 2013

हिन्दुस्तान में हिन्दी का, आज हो रहा  यह  सम्मान

हिन्दी पखवाडे के अलावा, हिन्दी कभी ना आये ध्यान

 

भाषण में हम कहते, ‘हिन्दी, बहुत सुबोध, सरल है…

Read more

किसे चाहिए वैरागी ? हर दल मांगे, केवल दागी

August 3, 2013

किसे चाहिए वैरागी ? हर दल मांगे, केवल दागी। 
जिसके पास है पैसा-पावर, जनता उसके पीछे भागी।

जाति-धर्म-धन जनता देखे, और नहीं कुछ जाँचें, …

Read more

बटला काण्ड पर रोईं सोनिया

July 25, 2013

       बटला पे रोई सोनिया, ये एहसान बहुत है।

      शायद चुनाव क्षेत्र में, मुसलमान बहुत हैं।

 

              बरसों पुराने जख्म, चुनावों में कुरेदो…

Read more

हालात कुछ एसे बनाए जा रहे हैं ।

July 4, 2013

हालात कुछ एसे बनाए जा रहे हैं ।

कटघरे में राम लाये जा रहे हैं ।

       

ईमान जिसमें बाकी है, शूली  पे वो चढ़ेगा

कर्तव्यनिष्ठ या देशभक्त…

Read more

View older posts »

कैसी लगी रचना आपको ? जरूर बताइये ।

There are currently no blog comments.